PM Kusum Yojana | अब खेती करना हुवा आसान, किसानो को मिलेगा फायदा! ऐसे करे आवेदन

PM Kusum Yojana भारत सरकार की किसानो के लिए समर्पित योजना है जिससे अब किसानो को खेती करने में और भी आसानी होनी वाली है, क्योकि केंद्र सरकार द्वारा कुसुम योजना के आंतरिक किसानो को सिंचाई करने के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाले सोलर पंप प्रदान कर रही है जिससे अब खेती करना आसान होने वाला है।

कुसुम योजना के लिए भारत सरकार ने मार्च 2019 में पंतप्रधान नरेंद्र मोदीजी के नेतृत्व में मंजूरी दी गई और देशभर में सौर पंप और अन्य नए बिजली यंत्र स्थापित करने के लिए नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (Ministry of New and Renewable Energy) द्वारा जुलाई 2019 में दिशानिर्देश तैयार किए गए।

इस योजना के तहत पेट्रोल और डिज़ल से चलने वाले पंप को सौर ऊर्जा के साथ बदलना ही इस योजना का उद्देश्य है, सौर ऊर्जा से प्रदूषण भी कम होगा और इससे किसानो का पेट्रोल और डिज़ल में लगाने वाली लागत भी बचेगी जिससे किसानो को और भी फायदा होगा।

कुसुम योजना के तहत किसान या किसानो का समूह, पंचायतें, सहकारी समितियां सोलर पंप लगाने के लिए आवेदन कर सकती हैं, जिसमे सरकार इस kusum yojana के तहत सब्सिडी भी प्रदान करेगी।

अगर आप भी इस pm kusum yojana के लिए आवेदन करना चाहते है और चाहते है की अपने खेत में सोलर पंप लगाना तो इस लेख को अंत तक पढ़े क्योकि इस लेख में हमने इस कुसुम सोलर पंप योजना की सम्पूर्ण जानकारी विस्तार में दी है।

इस योजना के लिए कोनसे किसान पात्र है?, इस योजना का लाभ किसे मिलेगा? PM kusum yojana के लिए आवेदन कैसे करना है? कुसुम योजना में सब्सिडी कितनी दी जाएगी ऐसी सारी जानकारी इस लेख में विस्तार से दी गयी है, जिससे आवेदन करते समय आपको कोई समस्या नहीं होगी और आप भी इस kusum solar pump yojana का लाभ ले पाएंगे इसलिए लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

PM Kusum Yojana 2024 (कुसुम योजना क्या है?)

PM Kusum Yojana केंद्र सरकार की योजना है जो किसानो को ध्यान में रखकर बनायीं गयी है, इस योजना के माध्यम से किसानो को सिंचाई करने के लिए सोलर पंप दिए जायेंगे जिससे सिंचाई करने में किसानो को आसानी होगी, इस योजना के तहत कम से कम लागत में किसानो को सोलर पंप दिए जायेंगे और साथ ही उन्हें 60% की सब्सिडी भी सरकार द्वारा दी जाएगी।

इस कुसूम योजना के बहुत सारे फायदे भी किसानो को मिलने वाले है जैसे की सोलर पंप के लिए लगाने वाली लागत में किसानो को सिर्फ 10% भुगतान देना है 30% की लागत केंद्र सरकार देगी और बाकि 60% की सब्सिडी किसानो को दी जाएगी।

इस योजना के लिए किसान या फिर किसानो का समूह और पंचायते, और सरकारी समितिया भी आवेदन करके कुसूम सोलर पंप योजना का लाभ ले सकते है। इस योजना के तहत पेट्रोल और डीजल वाले मोटर को सोलर पंप के साथ बदलना ही केंद्र सरकार का उद्देश्य है जिससे दो फायदे होंगे।

पहला फायदा यह होगा की किसानो को लगने वाला पेट्रोल और डिजल का का खर्चा नहीं होगा और दूसरा फायदा यह है की इससे प्रदुषण भी कम होगा। साथ ही ग्रामीण इलाको में बिजली की चोरी होती है मतलब अवैध तरीके से कुछ किसान बिजली का इस्तेमाल करते है तो ऐसी बिजली की चोरी भी नहीं होगी।

PM kusum solar pump yojana के और भी लाभ है जैसे की किसान अब इन सोलर पंप से बनी हुवी बिजली सरकार को बेचकर पैसे भी कमा सकता है।

योजना का नामKusum Solar Pump Yojana
शुरुआतकेंद्र सरकार
इनके द्वारा लॉन्च की गयीवित्तमंत्री श्री अरुण जेटली जी के द्वारा
उद्देशदेश के किसानो को स्वच्छ
ऊर्जा उपलब्ध कराना
लाभार्थीदेश के सभी पात्र किसान
लाभकम लागत में किसानो को
सोलर पंप मुहैया कराना
आवेदन प्रक्रियाऑनलाईन
आधिकारिक वेबसाइटkusum.mahaurja.com/solar
Home PageBharatMati

Objective of PM Kusum Yojana (उद्देश्य)

PM kusum yojana के उद्देश्य साफ साफ है इस योजना से ज्यादा से ज्यादा किसानो का ही लाभ होगा, इस योजना के तहत किसान कम लागत में अपने खेत में सिंचाई के लिए सोलर पंप का लाभ ले सकते है।

भारत सरकार की यह पहल पुरे विश्व की सबसे बड़ी पहलों में से एक है क्योकि इस योजना के तहत किसानो को सौर पंप से सुसज्जित किया जायेगा जिससे उन्हें 10 गीगावॉट तक की स्वच्छ ऊर्जा प्रदान होगी।

कुसूम योजना के मुख्य उद्देश्य में से एक है सिंचाई के लिए किसानो की डीजल पंप पर निर्भरता कम करना, जिससे किसानो का डीजल में लगने वाली लागत की बचत होगी और इससे पर्यावरण प्रदुषण भी कम होगा।

सौर पम्पों के उपयोग से सिंचाई की लागत कम करना यह भी इस योजना के तहत केंद्र सरकार का यह भी एक उद्देश्य है।

kusum yojana के तहत किसानो के लिए खेत में जल और ऊर्जा सुरक्षा निर्माण करना भी इस योजना का मुख्य उद्देश्य है।

बिजली की चोरी के वजह से भारत को हर साल बिजली चोरी में 16 अरब डॉलर यानी 1.32 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होता है, इस योजना के वजह से बिजली की चोरी को कम करना भी केंद्र सरकार का उद्देश्य है।

सोलर पंप किसी भी इलाकों में लगाए जा सकते है जैसे की पहाड़ी इलाकों में किसानो को बिजली की सुविधा नहीं मिल पाती और उन्हें डीजल पंप का इस्तेमाल सिंचाई करने के लिए करना पड़ता है जिससे उन्हें खर्चा भी बहुत आता है लेकिन इस योजना के तहत पहाड़ी इलाकों में भी सोलर पंप लगाए जायेंगे जिससे वहा के किसानो को बिजली की सुविधा या डीजल पर निर्भर नहीं रहना होगा।

PM Kusum Yojana के लाभार्थी

  • किसान
  • किसानों का समूह
  • सहकारी समितियां
  • पंचायत
  • किसान उत्पादक संगठन
  • जल उपभोक्ता एसोसिएशन

Benefits of PM Kusum Yojana (लाभ)

सोलर कुसूम योजना का लाभ देश के सारे किसान के साथ साथ पंचायते, सहकारी संस्थाए भी उठा सकती है, इस योजना के तहत मुख्य लाभ भारत के किसानो को होगा।

PM Kusum Yojana से मिलेगा किसानो को लाभ:

  • कुसूम योजना के तहत रियायती मूल्य पर सौर सिंचाई पंप किसानो को उपलब्ध कराना |
  • इस योजना के तहत जुड़े 10 लाख ग्रिड कृषि पंपों का सोलराइजेशन किया गया|
  • कुसूम सोलर योजना के तहत 17.5 लाख सिंचाई पंपों को सौर ऊर्जा से चलाया जाएगा जिससे डीजल इंजन की खपत कम होगी और किसानो की बचत ज्यादा होगी।
  • किसानो को डीजल इंजन पर निर्भर नहीं रहना होगा।
  • PM kusum yojana के तहत सौर पैनल लगाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा 60% की सब्सिडी दी जाएगी और 30% तक बैंक से लोन मिलेगा किसानो को सिर्फ लागत में 10% भुगतान करना होगा।
  • सोलर पैनल की वजह से किसानो को सिंचाई करने के लिए या ने कामो के लिए 24 घंटे बिजली मिलेगी।
  • सोलर पैनल से बनाने वाली अतिरिक्त बिजली जो किसान इस्तेमाल नहीं करता वह चाहे तो सरकारी या फिर गैर सरकारी बिजली विभागों को अतिरिक्त बिजली बेच सकता है जिससे किसानो को 1 माह के 6000 रूपये तक की मदद मिल सकती है।.
  • अगर किसी किसान की ज़मीन बंजर है तो इस कुसूम योजना के तहत बंजर ज़मीन में भी सोलर पैनल लगाए जायेंगे जिससे बंजर जमिस से भी किसान पैसा कमा पायेगा।

PM Kusum Yojana आवेदन शुल्क

कुसूम सोलर पैनल योजना के लिए केंद्र सरकार द्वारा आवेदन शुल्क भी दिया गया है, इस शुल्क को आपको आवेदन करते समय भी पेय कर सकते हो।

शुल्क को मेगावाट के हिसाब से बाटा गया है जिसमे आवेदक जीतनी ज्यादा मेगावाट के लिए सोलर पैनल के लिए आवेदन करेगा उतना ज्यादा आवेदन शुल्क आवेदक को देना होगा।

कुसूम योजना के लिए आवेदन शुल्क निम्मलिखित:

मेगा वाटआवेदन शुल्क
0.5 मेगावाट₹ 2500+ जीएसटी
1 मेगावाट₹5000 + जीएसटी
1.5 मेगावाट₹7500+ जीएसटी
2 मेगावाट₹10000+ जीएसटी

PM Kusum Yojana Eligibility Criteria (पात्रता मापदंड)

कुसूम योजना के लिए केंद्र सरकार द्वारा पात्रता मापदंड तय किये गए है अगर आवेदक इस योजना का लाभ लेकर अपने खेती में सोलर पैनल लगवाना चाहता है तो उन्हें सरकार द्वारा तय किये गए मापदंड में पात्र होना अनिवार्य है तभी उनका आवेदन स्वीकार होगा और वह इस योजना का लाभ ले पाएंगे।

PM Kusum Yojana पात्रता मापदंड निम्मलिखित:

  • कुसूम योजना के लिए आवेदन कर रहे आवेदक भारत का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • kusum yojana के तहत प्रति मेगावाट के लिए लगभग 2 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता होगी।
  • आवेदक कुसूम योजना के लिए 0.5 मेगावाट से लेकर 2 मेगावाट क्षमता तक की सौर ऊर्जा सयंत्र के लिए आवेदन कर सकते है।
  • कुसूम योजना का लाभ जिस जमीन के लिए किसान लेना चाहता है वह जमीन आवेदक के नाम पर होनी चाहिए, अगर जमीन आवेदक के नाम पर नहीं है तो इस कुसूम सोलर पंप योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

PM Kusum Yojana Important Documents (आवश्यक दस्तावेज)

PM Kusum Yojana के लिए आवेदन के लिए आपको निम्मलिखित दस्तावेज की जरुरत होगी।

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • रजिस्ट्रेशन की कॉपी
  • ऑथराइजेशन लेटर
  • जमीन की जमाबंदी की कॉपी
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

उपर दिए गए सारे डॉक्युमेंट्स PM कुसूम योजना का लाभ लेने के लिए अनिवार्य है, अगर आप इस योजना के लिए आवेदन करने की सोच रहे है तो आपके पास सारे दिए गए डॉक्युमेंट्स होने चाहिए, तभी आपका आवेदन स्वीकार किया जायेगा।

अगर किसी आवेदक के पास उपर बताये गए दस्तावेज नहीं है तो वह इस योजना के लाभ के लिए पात्र नहीं है।

PM Kusum Yojana Online Apply (ऑनलाइन आवेदन)

PM kusum yojana का लाभ लेने के लिए आपको ऑनलाइन माध्यम से आवेदन करना है, अगर आपको आवेदन करते नहीं आता तो आप नजदीकी सेतु केंद्र में जाकर भी आवेदन कर सकते है।

आप कुसूम योजना के लिए मोबाइल, लैपटॉप, या कंप्यूटर से आवेदन कर सकते हो, आवेदन करने के लिए निचे दिए गए चरणों का पालन करे।

सबसे पहले आपको kusum solar pump yojana के आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है, आधिकारिक वेबसाइट का लिंक उपर दिया है या फिर आप यहाँ क्लिक करके भी आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते है।

उसके बाद आपको ऑनलाइन अप्लाई का विकल्प ढूंढना है और इसके बाद उसपर क्लिक करना है।

उसके बाद आपके स्क्रीन पर फॉर्म ओपन हो जायेगा आपको फॉर्म में पूछी गयी सारी जानकारी दर्ज करनी है और उसके बाद एक बार दर्ज की जानकारी की जाँच करनी है अगर कुछ गलतिया हुवी हो तो तुरंत ठीक करे।

फॉर्म भरने के बाद आपको दस्तावेज को वेबसाइट पर अपलोड करना है इसलिए आपको सारे दस्तावेज को स्कैन करके अपलोड करना है।

फॉर्म भरने के बाद और दस्तावेज अपलोड होने के बाद आपको कुसूम योजना आवेदन शुल्क भरना होगा, उसे आप ऑनलाइन पेमेंट करके शुल्क का भुगतान कर सकते है।

कुसूम सोलर पैनल योजना का आवेदन शुल्क का भुगदान करने के बाद आपको फॉर्म को सबमिट करना है।

उसके बाद आपका फॉर्म कुसूम योजना के लिए जमा हो जायेगा उसके बाद आपके आवेदन की जाँच होगी अगर आप पात्र हुवे तो जल्द ही आपको सूचित किया जायेगा, और सिर्फ 10% लागत देकर आप सोलर पैनल अपने खेत में लगा सकते है।

इस तरह से आप ऑनलाइन माध्यम का इस्तेमाल करके PM kusum yojana के लिए आवेदन कर सकते है।

Kusum Solar Pump Yojana FAQ

कुसूम सोलर योजना में सरकार कितनी सब्सिडी प्रदान करती है?

कुसूम सोलर योजना में किसानो को सिर्फ 10% भुगतान देना है 30% की लागत केंद्र सरकार देगी और बाकि 60% की सब्सिडी किसानो को दी जाएगी।

PM Kusum Yojana के लिए कोण पात्र है?

PM Kusum Yojana के लिए देश के सभी किसान पात्र है

Leave a Comment